Tere Lekh Kisi Ke Samajh Na Aate Hai Bhajan विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं – भजन लिरिक्स

Estimated read time 2 min read

विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं – भजन लिरिक्स Tere Lekh Kisi Ke Samajh Na Aate Hai Bhajan Lyrics In Hindi And English

विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं हिंदी लिरिक्स (Tere Lekh Kisi Ke Samajh Na Aate Hai Bhajan Lyrics In Hindi)

विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं।

विधना तेरे लेंख किसी की समझ ना आते हैं,
जन जन के प्रिय राम लखन सिय वन को जाते हैं।।

एक राजा के राज दुलारे,
वन वन फिरते मारे मारे,
होनी होकर रहे कर्म गति,
टरे नहीं काहूँ के टारे,
सबके कष्ट मिटाने वाले कष्ट उठाते हैं,
जन जन के प्रिय राम लखन सिय,
वन को जाते हैं।।

फूलों से चरणों में काँटे,
विधि ने क्यों दु:ख दीन्हे ऐसे,
पग से बहे लहु की धारा,
हरि चरणों से गंगा जैसे,
सहज भाव से संकट सहतेऔर मुस्काते हैं
जन जन के प्रिय राम लखन सिय,
वन को जाते हैं।।

राजमहल में पाया जीवन,
फूलों में हुआ लालन पालन,
राजमहल के त्याग सभी सुख,
त्याग अयोध्या त्याग सिंहासन,
कर्म निष्ठ हो अपना अपना,
धर्म निभाते हैं महलों के वासी जंगल में,
कुटि बनाते हैं।।

कहते हैं देवों ने आकर,
भील किरात का भेष बनाकर,
पर्णकुटी रहने को प्रभु के,
रखदी हाथों हाथ सजाकर,
सिया राम की सेवा करके,
पुण्य कमाते हैं महलों के वासी जंगल में,
कुटि बनाते हैं।।

विधना तेरे लेंख किसी की समझ ना आते हैं,
जन जन के प्रिय राम लखन सिय वन को जाते हैं।। Tere Lekh Kisi Ke Samajh Na Aate Hai Bhajan Lyrics

देखें – श्री राम जी के प्यारे प्यारे खुशियों के तारे लगाने वाले भजन

विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं (Tere Lekh Kisi Ke Samajh Na Aate Hai Bhajan Lyrics In English)

Tere Lekh Kisi Ke Samajh Na Aate Hai Bhajan विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं
Tere Lekh Kisi Ke Samajh Na Aate Hai Bhajan विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं

Vidhna tere lekh kisi ki samajh na aate hain,
Jan jan ke priya Ram Lakhan Siya van ko jaate hain.

Vidhna tere lekh kisi ki samajh na aate hain,
Jan jan ke priya Ram Lakhan Siya van ko jaate hain.

Ek raja ke raj dulare,
Van van firte maare maare,
Honi hokar rahe karma gati,
Tare nahin kahu ke taare,
Sabke kasht mitane wale kasht uthate hain,
Jan jan ke priya Ram Lakhan Siya,
Van ko jaate hain.

Phoolon se charano mein kaante,
Vidhi ne kyun dukh diye aise,
Pag se bahe lahu ki dhaara,
Hari charano se Ganga jaise,
Sahaj bhav se sankat sahate aur muskaate hain,
Jan jan ke priya Ram Lakhan Siya,
Van ko jaate hain.

Rajmahal mein paya jeevan,
Phoolon mein hua lalan palan,
Rajmahal ke tyag sabhi sukh,
Tyag Ayodhya tyag singhasan,
Karma nishtha ho apna apna,
Dharm nibhate hain mahalon ke vaasi jungle mein,
Kuti banate hain.

Kehate hain devon ne aakar,
Bheel Kirat ka bhesh banakar,
Parnakuti rahne ko Prabhu ke,
Rakha di hatho hath sajakar,
Siya Ram ki seva karke,
Punya kamate hain mahalon ke vaasi jungle mein,
Kuti banate hain.

Vidhna tere lekh kisi ki samajh na aate hain,
Jan jan ke priya Ram Lakhan Siya van ko jaate hain.

रोजाना अपडेट के लिए व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें

HTML tutorial

You May Also Like

More From Author