Simhastha Hai Simhastha Shiv Bhajan | सिंहस्थ है सिंहस्थ शिव भजन

Estimated read time 2 min read

सिंहस्थ है सिंहस्थ शिव भजन लिरिक्स Simhastha Hai Simhastha Shiv Bhajan Lyrics In Hindi And English

Simhastha Hai Simhastha Shiv Bhajan Lyrics In Hindi (सिंहस्थ है सिंहस्थ)

||सिंहस्थ है सिंहस्थ शिव भजन||

सिंहस्थ है सिंहस्थ,
शिव ही सत्य है शिव भगवंत,
शिव आदि है शिव ही अनंत।
नंदी पर सवार होकर,
आएंगे तारणहार,
दर्शन को दर पर उसके,
लाखों की लगी कतार

बादलों ने बदली दिशाएं
आसमां से हटती घटाएं
खुश है सागर की लहरें
सनन मुस्काती हवाएं
शिव की भक्ति में खोने वाला जगत है….
सिंहस्थ है सिंहस्थ है सिंहस्थ है,
सिंहस्थ है सिंहस्थ है सिंहस्थ है,
सिंहस्थ………है…….

मेरा भोला है निराला
उस ने पिया विष का प्याला
सर पर चांद जटा में गंगा
गले में नाग की माला
शिव की महिमा अपरंपार
शिव करते सबका उद्धार
शिव करुणा का सागर है
शिव है सबका आधार
शिव आदी है शिव अनंत है
शिव शक्ति है वो भगवंत है
शिव ब्रह्म है ओमकार वही
शिव जीवन है संसार वही
मन छोड़ व्यर्थ की चिंता तू,
शिव का नाम लिए जा
शिव अपना काम करेंगे तू,
अपना काम किये जा ।

अमृत की बूंद गिरी शिप्रा जलधार में
मेरे महांकाल सजने वाले हैं श्रृंगार में
हर तरफ यही है चर्चा
भर लो शिव भक्ति पर्चा
मन में सब अलख जगा लो
गुजर जाए ना अरसा
कसक जीवन में मिलने वाला प्रयंत है,
सिंहस्थ है सिंहस्थ है सिंहस्थ है,
सिंहस्थ है सिंहस्थ है सिंहस्थ है,
सिंहस्थ………है…… Simhastha Hai Simhastha Shiv Bhajan

Simhastha Hai Simhastha Shiv Bhajan Lyrics In English (सिंहस्थ है सिंहस्थ)

Simhastha Hai Simhastha Shiv Bhajan सिंहस्थ है सिंहस्थ शिव भजन
Simhastha Hai Simhastha Shiv Bhajan सिंहस्थ है सिंहस्थ शिव भजन

||Simhastha Hai Simhastha Shiv Bhajan Lyrics||

Singhasth hain Singhasth,
Shiv hi satya hai Shiv Bhagwan,
Shiv aadi hai Shiv hi anant.
Nandi par sawar hokar,
Aayenge taranhar,
Darshan ko dar par uske,
Lakho ki lagi katar.

Badalon ne badli dishayein,
Aasmaan se hati ghataayein,
Khush hai sagar ki lehren,
Sunan muskaati hawaayein,
Shiv ki bhakti mein khone wala jagat hai…
Singhasth hain Singhasth hain Singhasth hain,
Singhasth hain Singhasth hain Singhasth hain,
Singhasth…

Mera Bhola hai nirala,
Usne piya vish ka pyala,
Sar par chaand, jata mein Ganga,
Gale mein naag ki mala,
Shiv ki mahima apar,
Shiv karte sabka uddhar,
Shiv karuna ka sagar hai,
Shiv hai sabka adhar,
Shiv aadi hai Shiv anant hai,
Shiv shakti hai vo Bhagwan hai,
Shiv Brahma hai Omkara vo hi,
Shiv jeevan hai sansaar vo hi,
Man chhod vyarth ki chinta tu,
Shiv ka naam liye ja,
Shiv apna kaam karenge tu,
Apna kaam kiye ja.

Amrit ki boond giri Shipra jaladhar mein,
Mere Mahakal sajne wale hain shringar mein,
Har taraf yahi hai charcha,
Bhar lo Shiv bhakti parcha,
Man mein sab alakh jaga lo,
Gujar jaaye na arsa,
Kasak jeevan mein milne wala prayant hai,
Singhasth hain Singhasth hain Singhasth hain,
Singhasth hain Singhasth hain Singhasth hain,
Singhasth…

रोजाना अपडेट के लिए व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें

HTML tutorial

You May Also Like

More From Author