Shardiya Navratri 2023 Day 4: शारदीय नवरात्रि 2023 चौथा दिन, माँ कूष्मांडा जी की आरती और पूजा सामग्री की सूची

Estimated read time 1 min read

शारदीय नवरात्रि 2023 चौथा दिन, माँ कूष्मांडा जी की आरती और पूजा सामग्री की सूची Shardiya Navratri 2023 Day 4 माँ कूष्मांडा जी की आरती, पूजा सामग्री की सूची, माता की पूजा का शुभ मुहूर्त क्या? Maa kushmanda puja Navratri 2023 shardiya navratri 2023 | 18 अक्टूबर, बुधवार को तीसरी नवदुर्गा माँ चंद्रघंटा जी की पूजा | चौथे दिन की पूजा 18 अक्टूबर 2023 को होगी। इस दिन माता कुष्मांडा देवी की पूजा-

Shardiya Navratri 2023 Day 4 शारदीय नवरात्रि 2023 चौथा दिन, माँ कूष्मांडा जी की आरती और पूजा सामग्री की सूची
Shardiya Navratri 2023 Day 4 शारदीय नवरात्रि 2023 चौथा दिन, माँ कूष्मांडा जी की आरती और पूजा सामग्री की सूची

Shardiya Navratri 2023: इस वर्ष शारदीय नवरात्रि की शुरूआत 15 अक्टूबर से होने जा रहा है तथा चौथे दिन की पूजा 18 अक्टूबर 2023 को होगी। इस दिन माता कुष्मांडा देवी की पूजा (maa kushmanda puja) का विधान है।

माता कुष्मांडा (maa kushmanda) को ऊर्जा की देवी कहा जाता है। मां दुर्गा के इस अवतार का नाम तीन शब्दों से मिलकर बना है- 1- ‘कु’ यानी छोटा सा, 2- ‘उष्मा’ यानी ऊर्जा और 3- ‘अंडा’ यानी एक गोला।

अर्थात, मां कुष्मांडा के नाम का पूरा मतलब है- ऊर्जा का एक छोटा सा गोला
कहा जाता है, कि जब सृष्टि में चारों ओर अंधकार फैला था, तब मां दुर्गा इसी स्वरूप में प्रकट हुई थीं और चारों तरफ प्रकाश उत्पन्न कर ब्रह्मांड की रचना की थी।
इसी कारण, मां कुष्मांडा को आदि स्वरूपा के नाम से भी जाना जाता है।

तो चलिए यहां जानते हैं, शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri 2023) के चौथे दिन माता कुष्मांडा की पूजा (Maa kushmanda puja) कैसे करें?

Shardiya Navratri 2023 Day 4

ऐसा है मां का स्वरुप:

कूष्मांडा देवी की आठ भुजाएं हैं, जिनमें कमंडल, धनुष-बाण, कमल पुष्प, शंख, चक्र, गदा और सभी सिद्धियों को देने वाली जपमाला है। मां के पास इन सभी चीजों के अलावा हाथ में अमृत कलश भी है। इनका वाहन सिंह है और इनकी भक्ति से आयु, यश और आरोग्य की वृद्धि होती है।

माता की पूजा का शुभ मुहूर्त क्या? (Maata kee Pooja Ka Shubh Muhoort Kya?)

चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा आराधना की जाती है जिसका शुभ मुहूर्त शाम 4:23 बजे तक रहेगा.  माता को पीला रंग अति प्रिय है. इस दिन देवी को पूजा में पीले रंग के वस्त्र, पीली चूड़ी, पीली मिठाई अर्पित करें.

मां कुष्मांडा की पूजा विधि: (Maa kushmanda ki puja vidhi)

18 अक्टूबर 2023 को चतुर्थी के दिन सुबह स्नानादि से निवृत्त होकर मां कुष्मांडा का ध्यान करें।
जहां आपने घटस्थापना की है, वहां साफ-सफाई करके माता कुष्मांडा की प्रतिमा या फोटो को लाल कपड़े पर रख दें।
अब मां कुष्मांडा को कुमकुम और अक्षत से तिलक लगाएं।
माता कुष्मांडा की तस्वीर के पास धूप दिखाकर मां की विधिवत पूजा करें।
मां कुष्मांडा को हरा रंग प्रिय है, अतः उन्हें हरे रंग के फूल और भोग अवश्य चढ़ाएं।
पूजा के समापन के पहले देवी कुष्मांडा की आराधना मंत्रों का पाठ करें।
उसके बाद आप दुर्गा सप्तशती और कुष्मांडा माता की आरती का पाठ करें।
इन मंत्रों का पाठ को करने से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है।

मां कुष्मांडा के लिए भोग: (Maa kushmanda Bhog)

माता की पूजा बिना भोग के अधूरी मानी जाती है। अतः माता कुष्मांडा को प्रसाद अवश्य चढ़ाएं। इस दिन मालपुए का भोग लगाने का विधान है।
यदि आप किसी कारणवश मालपुए का भोग न लगा पाएं तो मातारानी को गुड़ का भोग भी लगा सकते हैं।
मान्यता है कि माता कुष्मांडा को मालपुए का भोग लगाने से माता प्रसन्न होती हैं और हमें सुख-समृद्धि का आशीर्वाद देती हैं।

मां कुष्मांडा के मंत्र: (Maa kushmanda mantra)

ऐं ह्री देव्यै नम: वन्दे वांछित कामार्थे चन्द्रार्धकृतशेखराम्। सिंहरूढ़ा अष्टभुजा कूष्माण्डा यशस्विनीम्॥
ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं कुष्मांडा नम:
या देवी सर्वभूतेषु
मां कूष्मांडा रूपेण प्रतिष्ठितता।
नमस्‍तस्‍यै नमस्‍तस्‍यै:
नमस्तस्यै नमो नम:…

मां कूष्मांडा देवी की आरती: (Maa Kushmanda Devi Ki Aarti)

Shardiya Navratri 2023 Day 4 शारदीय नवरात्रि 2023 चौथा दिन, माँ कूष्मांडा जी की आरती और पूजा सामग्री की सूची

कूष्मांडा जय जग सुखदानी।
मुझ पर दया करो महारानी॥

पिगंला ज्वालामुखी निराली।
शाकंबरी माँ भोली भाली॥

लाखों नाम निराले तेरे ।
भक्त कई मतवाले तेरे॥

भीमा पर्वत पर है डेरा।
स्वीकारो प्रणाम ये मेरा॥

सबकी सुनती हो जगदंबे।
सुख पहुँचती हो माँ अंबे॥

तेरे दर्शन का मैं प्यासा।
पूर्ण कर दो मेरी आशा॥

माँ के मन में ममता भारी।
क्यों ना सुनेगी अरज हमारी॥

तेरे दर पर किया है डेरा।
दूर करो माँ संकट मेरा॥

मेरे कारज पूरे कर दो।
मेरे तुम भंडारे भर दो॥

तेरा दास तुझे ही ध्याए।
भक्त तेरे दर शीश झुकाए॥

यह भी पढ़ें – शारदीय नवरात्रि 2023 पांचवा दिन, मां स्कंदमाता जी की आरती और पूजा सामग्री की सूची

Read More : खाटू श्याम जी के 5 लोकप्रिय भजन लिरिक्स || नवरात्रि के 9 दिनों में मनाएं खास भोग, हर देवी को प्रसन्न करें के लिए इसे पढ़ें

🙏 Mata Ji ke Bhajan Lyrica’s 🙏

रोजाना अपडेट के लिए व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें

HTML tutorial

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours