Mere Gannayak Tum Aa Jao, Mein To Kabse Bat Nihar Rahi मेरे गणनायक तुम आ जाओ, मैं तो कबसे बाट निहार रही

Estimated read time 2 min read

मेरे गणनायक तुम आ जाओ,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओ।।
तर्ज – श्यामा आन बसों वृंदावन में।

mere gannayak tum aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao | |
tarj – shyama aan baso vrindavan me |

मेरी सखियाँ मुझसे पूछे है,
कब आएंगे गजमुख बोलो,
अब अष्ट विनायक आ जाओ,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओं,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओ।।

meri sakhiya mujhse pooche hai
kab aayega gajamukha bolo
ab aastha vinayak aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao | |

मन व्याकुल है तन डोले है,
हर साँस मेरी यही बोले है,
अब गौरी नंदन आ जाओ,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओं,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओ।।

man vyakul hai tan dale hai
har saans meri yahi bole hai
aab gori nand aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao | |

Mere Gannayak Tum Aa Jao, Mein To Kabse Bat Nihar Rahi

गौरा के मन मन का तू गौरव,
शिव जी की अँखियों का तारा,
अब विघ्न विनाशक आ जाओ,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओं,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओ।।

gori ke man ka tu gaurav
shiv ji ki aankhon ka tara
ab vindhya vinashak aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao | |

तेरा मुख मंगल की मूरत है,
तेरा दर्श ही गणपति अमृत है,
कभी मुझ पे दया बरसा जाओ,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओ,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओ।।

tera mukh mangal ki murti hai
tera darshan hi ganpati amrit hai
kabhi mujh daya barsa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao | |

मेरे मन में गणपति भक्ति रहे,
तेरी भक्ति ही दाता शक्ति रहे,
रंग ऐसा मुझपे चढ़ा जाओ,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओं,
मैं तो कबसे बाट निहार रही,
मेरे गणनायक तुम आ जाओ।।

mere man me ganpati bhakti rahe
teri bhakti hi data shakti rahe
rang aisa mujhpe chad jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao
me to kab se bat nihar rahi
mere gannayak tum aa jao | |

Read More : हम नैन बिछाए है हे गणपति आ जाओ || तेरा जग है करे गुणगान गजानन लम्बोदर

👆
🙏Ganesh Ji Bhajan Lyrica’s 🙏

रोजाना अपडेट के लिए व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें

HTML tutorial

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours