Ghar Ghar Mein Goonj Rahi Hanuman Ki Leelaayein घर घर में गूंज रही हनुमान की लीलाएं

Estimated read time 2 min read

घर घर में गूंज रही हनुमान की लीलाएं,
कर पार समुन्दर को सीता की सुध लाए।।

Ghar ghar mein goonj rahi Hanuman ki leelaayein,
Kar paar samundar ko Sita ki sudh laaye ||

सुन जामवंत के बोल हनुमान ने ये ठानी,
श्री राम उच्चार चले चाहे निचे था पानी,
प्रभु राम के काज करन हनुमान थे अकुलाये,
कर पार समुन्दर को सीता की सुध लाए।।

Sun Jaambvant ke bol, Hanuman ne ye thaanee,
Shri Ram uchaar chale, chahe niche tha paani,
Prabhu Ram ke kaaj karna, Hanuman the akulaayein,
Kar paar samundar ko Sita ki sudh laaye ||

जब लंकिनी ने रोका लंका के द्वारे पर,
वध कीन्हा आगे बढे पनघट के किनारे पर,
कहाँ बंदी बनी माता उसे कौन ये बतलाये,
कर पार समुन्दर को सीता की सुध लाए।।

Jab Lankini ne roka, Lanka ke dware par,
Vadh keenha aage, panaghat ke kinaare par,
Kahaan bandi bani maa, use kaun ye batlaayein,
Kar paar samundar ko Sita ki sudh laaye ||

Ghar Ghar Mein Goonj Rahi Hanuman Ki Leelaayein

कुछ दानविया मिलकर करती थी ये चर्चा,
वाटिका अशोक में दे सीता सत का परचा,
रावण का चंद्र खडग सती को ना छू पाए,
कर पार समुन्दर को सीता की सुध लाए।।

Kuchh Daanaviya milkar karti thi ye charcha,
Vaatika Ashok mein de Sita sat ka parcha,
Raavan ka chandr khadag, Sati ko na chu paaye,
Kar paar samundar ko Sita ki sudh laaye ||

बंदी थी जहाँ माता भागे हनुमत उस और,
कुम्भ्लाई बिना रघुनाथ ज्यूँ चंद्र के बिना चकोर,
उस विरह अवस्था में हनु दरश का सुख पाए,
कर पार समुन्दर को सीता की सुध लाए।।

Bandi thi jahan maa, bhaage Hanumat us aur,
Kumbhaklaai bina Raghunath jyun chandr ke bina chakor,
Us virah avastha mein, Hanu darsh ka sukh paaye,
Kar paar samundar ko Sita ki sudh laaye ||

सिया माँ के चरणों में प्रभु मुद्रिका जब फेंकी,
मुंदरी स्वामी की है ये सोच के फिर देखि,
मायावी दानव फिर कोई चाल नई लाये,
कर पार समुन्दर को सीता की सुध लाए।।

Siya Maa ke charano mein, Prabhu mudrika jab phenki,
Mundari Swami ki hai ye soch ke phir dekhi,
Maayavi daanav phir koi chaal nayi laaye,
Kar paar samundar ko Sita ki sudh laaye ||

तुम्हे राम दुहाई माँ मुझ पर विश्वास करो,
श्री राम का सेवक हूँ मत मुझसे मात डरो,
रघुवर के अंतर हर बात है बतलाई,
कर पार समुन्दर को सीता की सुध लाए।।

Tumhe Ram duhai Maa, mujh par vishwaas karo,
Shri Ram ka sevak hoon, mat mujhse maat daro,
Raghuvir ke antar har baat hai batlaaye,
Kar paar samundar ko Sita ki sudh laaye ||

घर घर में गूंज रही हनुमान की लीलाएं,
कर पार समुन्दर को सीता की सुध लाए।।

Ghar ghar mein goonj rahi Hanuman ki leelaayein,
Kar paar samundar ko Sita ki sudh laaye ||

Read More : हनुमान तेरा क्या कहना || ओ लाल लंगोटे वाले प्रभु तेरे रूप निराले

🙏 Hanuman Ji Ke Bhajan Lyric’s 🙏

रोजाना अपडेट के लिए व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें

HTML tutorial

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours